संप्रेषण – राकेश रोहित


परदे पर कोई भावप्रवण दृश्य चल रहा था. वह भावातिरेक में बुदबुदाया, ” सिनेमा संप्रेषण का सशक्त माध्यम साबित हो सकता है.” अचानक इंटरवल हो गया. परदे पर एक रील चमकने लगी- “धूम्रपान निषेध.” और वह समझ नहीं पा रहा था कि उसके सिगरेट के धुंए से मुझे खांसी हो रही थी. ooo

 

 

5 विचार “संप्रेषण – राकेश रोहित&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s